दो दिलो का मिलन – Meeting of Two Hearts

दो दिलो का मिलन – Meeting of Two Hearts

Ghazal in hindi kavitaआनंदमय जीवन की कला
दो दिलो का मिलन : Do Dilo Ka Milan
दो दिलो के मिलन का दिदार मांगता हूं,
जो मोहब्बत से पेस आये,
उस मोहब्बत के लिए प्यार मांगता हूं ।
गम के लिए खुशी,
चमन के लिए बहार मांगता हूं ।
एक दुल्हन के अरमानो का श्रृंगार मांगता हूं ।
विरह वेदना मे तड़पती हुई,
उसी दुल्हन के लिए अंगार मांगता हूं ।

– © सतीश कौशल –

आज जंग-ए-ज़िन्दगी में कोई हारा क्या करें !
अलविदा कहकर गया कोई सितारा क्या करें !
प्यास तो सारे जहाँ की वह बुझा देता मगर
है मगर जब आब ही सागर का खारा क्या करें !
आज उस दरिया में मैं लेकर सफ़ीना रह गया
स्याह रातों में नहीं सूझे किनारा क्या करें !
मैं भी उनके दीद का था मुन्तज़िर,लेकिन कहाँ-
बज़्म में मैं जा सका किस्मत का मारा,क्या करें !
भाईचारा और है अम्न-ओ-सुकूँ हासिल नहीं
दिन-ब-दिन चढ़ता गया दहशत का पारा क्या करें !

– © सत्यव्रत मिश्र ‘सत्य’ –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *