गौतम बुद्ध के अनमोल वचन – Gautam Buddha ke Anmol Vachan

गौतम बुद्ध के अनमोल वचन – Gautam Buddha ke Anmol Vachan

Gautam Buddha ke Anmol Vachan in Hindiआनन्दमय जीवन की कला
भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन हिंदी में
Bhagwan Gautam Buddha ke Anmol Vachan in Hindi
  • क्रोध को पाले रखना खुद ज़हर पीकर दूसरे के मरने की अपेक्षा करने के समान है ।
  • तुम्हारा शरीर कीमती है, यह हमारे जागृति का साधन है, इसका ध्यान रखो ।
    Your body is precious, it is the means of our awakening, take care of it.
  • अपने अहंकार को एक ढीले-ढाले कपड़े की तरह पहनें ।
    Wear your ego like a loose-fitting dress.
  • एक क्षण एक दिन बदल सकता है, एक दिन एक जीवन को बदल सकता है,
    और एक जीवन पूरे विश्व को बदल सकता है ।
  • जिस क्षण आप सारी सहायता अस्वीकार कर देते हैं आप मुक्त हो जाते हैं ।
  • जो क्रोधित विचारों से मुक्त हैं उन्हें निश्चय ही शांति प्राप्त होगी ।
    Those who are free from angry thoughts will surely find peace.
  • क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है,
    इसमें आप ही जलते हैं ।
  • यदि एक पवित्र मन के साथ कोई व्यक्ति बोलता या काम करता है,
    तो कभी न जाने वाली परछाई की तरह ख़ुशी उसका पीछा करती है ।
  • जैसे मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती, मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता ।
  • जो लोग चतुराई से जीते है उन्हें मौत से डरने की जरूरत नही होती है ।
  • अतीत पर ध्यान केन्द्रित मत करो, भविष्य का सपना भी मत देखो,
    वर्तमान क्षण पर ध्यान केंद्रित करो ।
  • मैं कभी नहीं देखता की क्या किया जा चुका है, मैं हमेशा देखता हूँ कि क्या किया जाना बाकी है ।
    I never see what has been done, I always see what remains to be done.
  • अगर आप वाकई में अपने आप से प्रेम करते है, तो आप कभी भी दूसरों को दुःख नहीं पहुंचा सकते ।
  • यदि आप दिशा नहीं बदलते हैं तो संभवतः आप वहीँ पहुँच जायेंगे जहाँ आप जा रहे हैं ।
    If you do not change direction, you will probably reach where you are going.

– भगवान गौतम बुद्ध (Bhagwan Gautam Buddha) –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code