गौतम बुद्ध के उपदेश – Gautam Buddha ke Updesh

गौतम बुद्ध के उपदेश – Gautam Buddha ke Updesh

Gautam Buddha ke Updesh in Hindiआनन्दमय जीवन की कला
गौतम बुद्ध के उपदेश हिंदी में
Gautam Buddha ke Updesh in Hindi
  • जीभ एक तेज चाकू की तरह बिना खून निकाले ही मार देता है ।
    The tongue kills like a sharp knife without drawing blood.

  • क्रोध के लिए सजा नही मिलती बल्कि अपने क्रोध से की गयी गलती के लिए सजा मिलती है ।
  • असल जीवन की सबसे बड़ी विफलता है, हमारा असत्यवादी होना ।
    The biggest failure of real life is our being unrealistic
  • सत्य के रस्ते पर कोई दो ही गलतियाँ कर सकता है, या
    तो वह पूरा सफ़र तय नहीं करता (He doesn’t travel) या सफ़र की शुरुआत ही नहीं करता ।
  • तीन चीजों को लम्बी अवधि तक छुपाया नहीं जा सकता, सूर्य, चन्द्रमा और सत्य ।
    Three things cannot be hidden for a long time, the sun, the moon and the truth
  • मंजिल या लक्ष्य तक पहुँचने से ज्यादा महत्वपूर्ण यात्रा अच्छे से करना होता है ।
    More important than traveling to the destination or goal is to travel well
  • खुशियों का कोई रास्ता नहीं, खुश रहना ही रास्ता है ।
    There is no way to be happy, to be happy is the way.

  • बुराई अवश्य रहनी चाहिए तब ही अच्छाई इसके ऊपर अपनी पवित्रता साबित कर सकती है ।
    Evil must remain, only then can goodness prove its purity over it.

  • निश्चित रूप से जो नाराजगी युक्त विचारों से मुक्त रहते हैं वही शांति पाते हैं ।
  • सभी गलत कार्य मन से ही उपजाते हैं (All wrong actions arise from the mind itself),
    अगर मन परिवर्तित हो जाय तो क्या गलत कार्य रह सकता है ।
  • मनुष्य के अंदर ही शांति का वास होता है, उसे बाहर ना तलाशें ।
    There is peace of peace inside a human being, do not seek it out.
  • पैर तभी पैर महसूस करता है जब यह जमीन को छूता है ।
  • मनुष्य के अंदर ही शांति का वास होता है, उसे बाहर ना तलाशें ।
    एक शुद्ध निःस्वार्थ जीवन (Selfless life) जीने के लिए,
    एक व्यक्ति को प्रचुरता में भी कुछ भी अपना नहीं है ऐसा भरोसा (believe) करना चाहिए ।
  • हजारों खोखले शब्दों से अच्छा वह एक शब्द है जो शांति लाये (That brings peace) ।
  • किसी विवाद में हम जैसे ही क्रोधित होते हैं,
    हम सच का मार्ग छोड़ देते हैं, और अपने लिए प्रयास करने लगते हैं ।
  • बिना सेहत के जीवन, जीवन नहीं है,
    बस पीड़ा की एक स्थिति है मौत की छवि है ।
  • घृणा, घृणा करने से कम नहीं होती, बल्कि प्रेम से घटती है, यही शाश्वत नियम है ।
  • स्वास्थ्य सबसे महान उपहार है (Health is the greatest gift),
    संतोष सबसे बड़ा धन तथा विश्वसनीयता (Money and credibility) सबसे अच्छा संबंध है ।
  • मनुष्य का दिमाग (Human mind) ही सब कुछ है, जो वह सोचता है वही वह बनता है ।

– महात्मा गौतम बुद्ध (Mahatma Gautama Buddha) –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code