श्री हनुमान चालीसा – Shri Hanuman Chalisa

श्री हनुमान चालीसा – Shri Hanuman Chalisa

Hanuman Chalisa in Hindi Anmol Gyan Indiaआनन्दमय जीवन की कला
श्री हनुमान चालीसा हिंदी में
Shri Hanuman Chalisa Hindi Mein
श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मन मुकुर सुधार | बरनौ रघुवर बिमल जसु , जो दायक फल चारि ||
बुद्धिहीन तनु जानि के, सुमिरौ पवनकुमार | बल बुद्धि विद्या देहु मोहि हरहु कलेश विकार ||
महाबीर बिक्रम बजरंगी कुमति निवार सुमति के संगी |
कंचन बरन बिराज सुबेसा, कान्हन कुण्डल कुंचित केसा ||
हाथ ब्रज औ ध्वजा विराजे कान्धे मूंज जनेऊ साजे |
शंकर सुवन केसरी नन्दन तेज प्रताप महा जग बन्दन ||
विद्यावान गुनी अति चातुर राम काज करिबे को आतुर |
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया रामलखन सीता मन बसिया |
सूक्ष्म रूप धरि सियंहि दिखावा बिकट रूप धरि लंक जरावा |
भीम रूप धरि असुर संहारे रामचन्द्र के काज सवारे ||
लाये सजीवन लखन जियाये श्री रघुबीर हरषि उर लाये |
रघुपति कीन्हि बहुत बड़ाई तुम मम प्रिय भरत सम भाई ||
सहस बदन तुम्हरो जस गावें अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावें |
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा नारद सारद सहित अहीसा ||
जम कुबेर दिगपाल कहाँ ते कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते |
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा राम मिलाय राज पद दीन्हा ||
तुम्हरो मन्त्र विभीषन माना लंकेश्वर भये सब जग जाना |
जुग सहस्र जोजन पर भानु लील्यो ताहि मधुर फल जानु ||
प्रभु मुद्रिका मेलि मुख मांहि जलधि लाँघ गये अचरज नाहिं |
दुर्गम काज जगत के जेते सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ||
राम दुवारे तुम रखवारे होत न आज्ञा बिनु पैसारे |
सब सुख लहे तुम्हारी सरना तुम रक्षक काहें को डरना ||
आपन तेज सम्हारो आपे तीनों लोक हाँक ते काँपे |
भूत पिशाच निकट नहीं आवें महाबीर जब नाम सुनावें ||
नासे रोग हरे सब पीरा जपत निरंतर हनुमत बीरा |
संकट ते हनुमान छुड़ावें मन क्रम बचन ध्यान जो लावें ||
सब पर राम तपस्वी राजा तिनके काज सकल तुम साजा |
और मनोरथ जो कोई लावे सोई अमित जीवन फल पावे ||
चारों जुग परताप तुम्हारा है परसिद्ध जगत उजियारा |
साधु संत के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे ||
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन्ह जानकी माता
राम रसायन तुम्हरे पासा सदा रहो रघुपति के दासा ||
तुम्हरे भजन राम को पावें जनम जनम के दुख बिसरावें |
अन्त काल रघुबर पुर जाई जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई ||
और देवता चित्त न धरई हनुमत सेई सर्व सुख करई |
संकट कटे मिटे सब पीरा जपत निरन्तर हनुमत बलबीरा ||
जय जय जय हनुमान गोसाईं कृपा करो गुरुदेव की नाईं |
जो सत बार पाठ कर कोई छूटई बन्दि महासुख होई ||
जो यह पाठ पढे हनुमान चालीसा होय सिद्धि साखी गौरीसा |
तुलसीदास सदा हरि चेरा कीजै नाथ हृदय मँह डेरा ||
॥ दोहा॥
प्रेम प्रतीतिहि कपि भजे,सदा धरै उर ध्यान ।
तेहि के कारज सकल सुभ,सिद्ध करैं हनुमान ॥
बाल समय रवि भक्षी लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारों ।
ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो ।
देवन आनि करी बिनती तब, छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ।
बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो ।
चौंकि महामुनि साप दियो तब, चाहिए कौन बिचार बिचारो । को नहीं जानत है …
कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के सोक निवारो ।
अंगद के संग लेन गए सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो । को नहीं जानत है …
जीवत ना बचिहौ हम सो जु, बिना सुधि लाये इहाँ पगु धारो ।
हेरी थके तट सिन्धु सबे तब , लाए सिया-सुधि प्राण उबारो । को नहीं जानत है …
रावण त्रास दई सिय को सब , राक्षसी सों कही सोक निवारो ।
ताहि समय हनुमान महाप्रभु , जाए महा रजनीचर मरो । को नहीं जानत है …
चाहत सीय असोक सों आगि सु , दै प्रभुमुद्रिका सोक निवारो ।
बान लाग्यो उर लछिमन के तब , प्राण तजे सूत रावन मारो । को नहीं जानत है …
लै गृह बैद्य सुषेन समेत , तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो ।
आनि सजीवन हाथ दिए तब , लछिमन के तुम प्रान उबारो । को नहीं जानत है …
रावन जुध अजान कियो तब , नाग कि फाँस सबै सिर डारो ।
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल , मोह भयो यह संकट भारो । को नहीं जानत है …
आनि खगेस तबै हनुमान जु , बंधन काटि सुत्रास निवारो ।
बंधू समेत जबै अहिरावन, लै रघुनाथ पताल सिधारो । को नहीं जानत है …
देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि , देउ सबै मिलि मन्त्र विचारो ।
जाये सहाए भयो तब ही , अहिरावन सैन्य समेत संहारो । को नहीं जानत है …
काज किये बड़ देवन के तुम , बीर महाप्रभु देखि बिचारो ।
कौन सो संकट मोर गरीब को , जो तुमसे नहिं जात है टारो । को नहीं जानत है …
बेगि हरो हनुमान महाप्रभु , जो कछु संकट होए हमारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो । को नहीं जानत है …
॥ दोहा ॥
लाल देह लाली लसे , अरु धरि लाल लंगूर ।
वज्र देह दानव दलन , जय जय जय कपि सूर ।।

*** जय श्री राम ***

– Anmol Gyan India –

श्री हनुमान चालीसा – Shri Hanuman Chalisa

0

Pros

Cons

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

1 Comment

Comments are closed.