हास्य कविता हिंदी में – Humorous Poem in Hindi

हास्य कविता हिंदी में – Humorous Poem in Hindi

Hasya Kavita in Hindi Anmol Gyanआनन्दमय जीवन की कला
मजेदार हास्य कविता हिंदी में
Majedar Hasya Kavita Hindi Me
:: मजेदार हास्य ::
एक बार माया नगरी की यातरा बनी तो
मित्र मेरा बोला “यार चालू में है चलना।
अब तक घर फूंक बहुत तमाशा हुआ
घर-बार चेत अब हमें है संभलना।”
सुन सदवाक्य मैं अवाक रहा ताक उसे
यार ये मिठाईलाल है कि कोई छलना।
बात पूरी कर तब फूँक मारी बीड़ियों की
खोंखते-खखारते ही मुझे पड़ा टलना।
अटे जब टेसन पे खड़ी दिखी रेल नीली
घुसे ठेल-ठालकर रेले को भी रेलकर।
बड़ा हुँसियार रहा जन्म का मिठाईलाल
पँजियाते चला आह मुझे भी धकेलकर।
भीड़ इतनी कि पाँव फर्श पर पड़े नहीं
अड़े रहे भाँति- भाँति बदबू को झेलकर।
घंटे हाँ चौबीस बीते कुर्ला भी आ गया लो
उतरे मिठाई गिनी गालियों को पेलकर।
बोले मुझसे कि परेशान होने का नहीं है
इदरीच तेरे कू मैं खोली दिलवाएगा।
जब तक काम-धंधा दिलवा न पायेगा मैं
अपनी ही कोठरी में तुझे ठहराएगा।
खोली में पहुँचते ही गिरा नाली में फिसल
दोस्त बोला-रुक, पानी आये तो नहायेगा।
मैंने बोला- इतना बता दे तू मिठाईलाल
कब मुझे वापसी का टिकिट करायेगा?

– © सत्यव्रत मिश्र “सत्य” –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *