श्री हनुमान – Shri Hanuman

श्री हनुमान – Shri Hanuman

Hanuman Chalisa AnmolGyanआनन्दमय जीवन की कला
जय श्री हनुमान : Jai Shri Hanuman
:: 1 ::
क्षण में दिवाकर को देखते निगल गये,
मित्र श्री सुकंठ के तुम्हारी महिमा अपार ।
रार जिसने किया सिधार गया परलोक,
कहाँ किसी मे है शक्ति आपसे जो करे रार ।
जिसके समान कोई वीर धरती पे नहीं,
खाते खाते फल मार दिया अक्षयकुमार ।
बज्र के समान अंग नाम हुआ बजरंग,
पूज्य हुमान को प्रणाम करूं पार बार ।।
:: 2 ::
द्वार-द्वार पे लिखी हों वेद की ऋचायें और,
घर में सुप्रेरकों के चित्र होने चाहिए ।
छल, दम्भ, द्वेष आदि शत्रु के समान लगें,
सत्य, धर्म, न्याय, प्रेम मित्र होने चाहिए ।
दूसरे से ही न आश करते रहें सदैव,
निज आचरण भी पवित्र होने चाहिए ।
रावणों को जड़ से मिटाने हेतु मित्रवर,
अपने भी राम-से चरित्र होने चाहिए ।।

– अखिलेश त्रिवेदी ‘शाश्वत’ –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *