मां का निः स्वार्थ भाव – Mother’s selfishness

मां का निः स्वार्थ भाव – Mother’s selfishness

mata ka aashirvad mata-aur-pitaThe Art of Happiness Life
संसार में वह कौन है, जो निः स्वार्थ भाव रखती है?
  • “मां” अर्थात माता (Mother) |
  • एक मां हर बेटे के साथ होती है पर हर बेटा (Son) मां के साथ नहीं होता है |
  • माँ के चरण तले हमारा जीवन (Life) होता है, मां का आशीर्वाद (Mother’s blessing) हमारे जीवन को सफल (Successful) बना देता है |
आप को पता है प्रेम अन्धा क्यों होता है (Love is blind.) आइये मै बताता हूँ? –

  • क्योकि आप की माता, आपको जन्म (Birth) देने से पहले प्रेम करने लगती है |
प्यार कहाँ से शुरू होती है (Where does love begin)?-

  • मां की आँचल से (Mother’s lap)…

– © Anmol Gyan India –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

1 Comment

  1. सुधीर

    माँ तो बस माँ है….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *