ॐ ही जगत का सार है – OM is the essence of the world

ॐ ही जगत का सार है – OM is the essence of the world

Om Omkar Shiv Anmolgyan OM Symbolआनन्दमय जीवन की कला
जो बंधन में है, वह जीव है ।
जो बंधन से मुक्त है, वह ओमकार है।।
ॐ न होता तो, हम ना होते..!
ॐ न होता तो, ये ॐकार ना होता..!
ॐकार न होता तो, ये आकार ना होता..!
आकार न होता तो, ये साकार ना होता..!
साकार न होता तो, ये निराकार ना होता..!
निराकार न होता तो, ये संसार ना होता..!

शक्ति का जो नाम पहला, इस जगत का जो धुरन्धर ।
धुन्ध की चादर लपेटे, दिवा में ही अस्त दिनकर ।
यह वृथा है याकि सच है, सत्य शायद कटु प्रकृति का ।
याकि यह है आइना इक, जगनियंता की सुकृति का ।
है यही प्रतिरूप शायद, मृत हुई सम्वेदना का ।
दानवी सी वृत्तियों से, जनित निर्मम वेदना का।

卐 ॐ नमः शिवाय । ॐ नमः शिवाय । ॐ नमः शिवाय । 卐

– Anmol Gyan India –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

2 Comments

  1. Om
    One word for peace

  2. Links of world…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *