समकालीन दोहे – Samkaleen Dohe

समकालीन दोहे – Samkaleen Dohe

Hindi Dohe, Dohe in Hindi AnmolGyanThe Art of Happiness Life
:: 1 ::
जहर बुझे संवाद हैं कुंठित कुंठित मौन ।
यक्षप्रश्न हैं अनगिनत बने युधिष्ठिर कौन ।।
मानसरोवर में करें कौवे करुण किलोल ।
पशुता दरवाजे खड़ी बजा रही है ढोल ।।
कुटिल हृदय मानस विकृत गीधदृष्टि वकध्यान ।
बैठे हैं हर डाल पर उल्लू सीना तान ।।
हमने देखे हैं बहुत बड़े बड़े विद्वान ।
चालाकी में काटते लोमड़ियों के कान ।।
वैचारिक असहिष्णुता हुई कोढ़ में खाज ।
दिन दिन बढ़ता जा रहा विषवामिनी समाज ।।
बस्ती बस्ती वेदना पनघट पनघट प्यास ।
देख देख युग का चलन मन हो गया उदास ।।
किसको सहयात्री चुनें किसे बनाएँ के मीत ।
दुनिया भयवश चल रही मानवता भयभीत ।।
:: 2 ::
जोड़ रहा है हाथ कारवाँ ।
छोड़ रहा है साथ कारवाँ ।
पथ से जो अनभिज्ञ स्वयं ही ।
चलता उनके साथ कारवाँ ।
नन्दन की कोमल कलियों को ।
बना रहा फौलाद कारवाँ ।
मन की बात करे कोई तो ।
करता है प्रतिवाद कारवाँ ।
अपनी अपनी तान छेड़कर ।
करता व्यर्थ विवाद कारवाँ ।
चारों तरफ वर्जनायें हैं ।
फिर भी है आजाद कारवाँ ।

– © योगी देशबन्धु –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *