सत्य वचन – True Word

सत्य वचन – True Word

Satya Vachan in Hindiआनंदमय जीवन की कला
सत्य वचन हिन्दी में : Satya Vachan in Hindi
  • मै श्रेष्ठ हूँ तो इसे आत्मविश्वास कहते हैं,
    लेकिन मैं ही श्रेष्ठ हूँ तो इसे अहंकार कहते हैं ।
  • जिस प्रकार दीपक अपना परिचय प्रकाश से देता है ।
    ठीक उसी प्रकार मनुष्य का परिचय गुणों से होता है ।।
  • जो हमसे अच्छा व्यवहार करें, उन्हें धन्यवाद कहो ।
    और जो हमसे अच्छा व्यवहार न करें, उन्हें मुस्कुराकर माफ करो ।।
  • जीवन में इच्छायें पूरी न हो तो क्रोध बढ़ता है,
    और इच्छायें पूरी हो जाने पर लोभ बढ़ता है ।
    इसीलिए जीवन की हर स्थिति में धैर्य बनाये रहना ही श्रेष्ठकर है ।।
  • प्रेम एक ऐसा मंत्र है जिससे सारी दुनियाँ को जीता जा सकता है।
    Love is such a mantra that the whole world can be won.
  • मनुष्य के जीवन में कुछ सम्बन्ध ऐसे होते हैं,
    जो किसी पद के लिए मोहताज नहीं होते,
    वे प्यार और विश्वास पर टिके होते हैं ।
  • सपने छोटे क्यो न हो लेकिन, उसे पूरा करने के लिए साहसी और एकाग्रचित होना चाहिए ।
  • कागजों को जोड़ने वाली पिन, जिस प्रकार कागजों को एक साथ रखने के लिए कागजों में चुभती है ।
    ठीक उसी प्रकार परिवार का वही सदस्य, अन्य सदस्यों को चुभता है जो परिवार को जोड़े रखता है ।।
  • शक्ति की आवश्यकता तभी होती है, जब मनुष्य को कुछ बुरा करना हो ।
    लेकिन संसार में सब कुछ पाने के लिए प्रेम ही काफी है ।।
  • सपने भले ही छोटी हो, लेकिन उसे पूरा करने के लिए लगन होनी चाहिए ।
  • दोस्त, वक्त और रिश्ते ये वो चीजे होती हैं, जो हमें मुफ्त मिलती हैं ।
    लेकिन इनकी कीमत का पता तब होता है, जब हम इन्हे खो देते हैं ।।

– © Anmol Gyan India –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *