एकाग्रता की शक्ति से जीवन में सफलता – Success in life with the power of concentration

एकाग्रता की शक्ति से जीवन में सफलता – Success in life with the power of concentration

एकाग्रता से जीवन में सफलताThe Art of Happiness Life
एकाग्रता से जीवन में सफलता : Ekagrata Se Jeevan Me Safalta
मनुष्य का मन बहुत चंचल होता है । मन को एक दिशा में बनायें रखना बहुत कठिन होता है ।
“मन को एक ही दिशा प्रयोजन में लगाये रखना ही एकाग्रता कहलाता है।”
या
“मन को अपने वश में रखना ही एकाग्रता कहलाता है।” ( Keeping the mind in its control is called concentration. )

एकाग्रता, निरंतर अभ्यास तथा उपायों द्वारा संभव होती है । ( Concentration are possible by continuous practice and measures. ) मन एक ही बार में एक ही काम कर सकता है । मन को निरर्थक, निरुपयोगी तथा छोटी-छोटी बातों में व्यर्थ में उलझे रहने से बहुत हानि होती है । अतः मन को एक निश्चित दिशा, लक्ष्य और प्रयोजन में लगायें रहना ही सार्थक है । एकाग्रता की शक्ति में अन्तर के कारण ही एक मनुष्य दूसरे से भिन्न होता है । ( Due to the difference in concentration power, one man is different from another. ) चाहे छोटे से छोटे आदमी हो या बड़े से बड़े आदमी क्यो न हो, बस अन्तर केवल मन की एकाग्रता की मात्रा से होता है ।

एकाग्रता की सिद्धी के लिए सबसे अच्छा उपाय यही है कि मन को व्यर्थ या निरर्थक समस्याओं से दूर रखा जाय । ( The best solution for attainment of concentration is that the mind should be kept away from vain or meaningless problems. ) अधिकतर लोग घर परिवार, देश, समाज इत्यादि की ऐसी छोटी-छोटी बातों में उलझे रहते हैं जिनका न तो स्वयं के लक्ष्य प्रयोजन से होता है और न ही घर परिवार से, इन सब विचारों में मन को उलझाएं रखना मन की चंचलता को छिन्न-भिन्न कर देता है और जीवन की सफलता के लिए वाधक बन जाता है ।

आजकल लोग दुनिया भर की बातें सुन-सुनकर या दूसरे को देखकर उन्हीं में उलझे रहतें हैं । ( Nowadays, people are entangled in listening to them or seeing others around them. ) यह मनःशक्ति का अपव्यय ही है । ऐसे लोग धीरे-धीरे उसी विचार स्तर में बध जाता है और उसी में उलझ जाता है जिससे जीवन में सफलता नहीं मिलती है । ( Such people gradually get absorbed in the same thought level and get entangled in it which does not lead to success in life. )
रहीम जी ने बहुत सुन्दर दोहा लिखा है –

कदली, सीप, भुजंग मुख, स्वाति एक गुन तीन ।
जैसी संगति बैठिए, तैसोई फल दीन ॥

मनुष्य के मन का सीधा सम्बन्ध संगति से होता है जिस संगति में आप रहेंगे वैसी ही आप की विचार धारा बन जायेगा । ( The direct relationship of a person’s mind is with association, the same will be the idea of ​​which you will remain. )

आजकल लोग अख़बार पढ़कर, सनसनी खेल, विचित्र कहानियाँ, कामोंत्तेजक साहित्य पढ़ता है या टीवी सीरियल, फिल्म इत्यादि देखकर मन की चंचलता को बढ़ावा देता है ।
अब प्रश्न यह है की मन को कैसे एकाग्रचित किया जाय की जीवन में सफलता प्राप्त कर सकें ।

जीवन में सफलता प्राप्त करने के कुछ उपाय निम्नलिखित हैं –
  • मनुष्य को सबसे पहले जीवन में लक्ष्य बनाना चाहियें की उसे क्या करना है ? ( Man should first aim in life, what does he have to do? )
  • जीवन में जो लक्ष्य हो, उसी दिशा में मन को लगाना चाहिए । ( The goal in life should be to put the mind in the same direction. )
  • अपने लक्ष्य को अपनी क्षमता और रूचि के हिसाब से तय करना चाहिए । ( Your goal should be determined according to your ability and interest. )
  • मन को एकाग्रचित करने के लिए प्राणायाम तथा योग करना चाहिए । ( Pranayama and Yoga should be done to concentrate on the mind. )
  • अपने मन को या सोच को नकारात्मक न होने दें । ( Do not let your mind or thoughts be negative. )
  • अपने विचारों के प्रति जागरूक रहना होगा क्योकि मन तरंगो की भाँति पल-पल में बदलती रहती है ।
  • मन में पानी के बुलबुले की तरह बनने वाले आकांक्षाएं न पैदा होने दें ।
  • आपकी आकांक्षाएं सुव्यवस्थित तथा स्थिर होने चाहिए । ( Your aspirations should be streamlined and stable. )
  • अपने आप पर विश्वास रखों । ( Believe in yourself )
  • मन को शुद्ध करना होगा, मन जितना शुद्ध होगा, उसे वश में करना उतना ही सरल होगा ।
  • क्रोध पर नियंत्रण रखें क्योकि यह नकारात्मक सोच को बढ़ावा देता है । ( Keep control over anger as it promotes negative thinking. )
  • मन या विचार का सीधा सम्बन्ध आहार से होता है यदि आहार शुद्ध है तो हमारा विचार या मन शुद्ध होगा ।
  • मन में अहंकार को न पनपने दें ।
  • अपने जीवन को सरल या सहज बनायें । ( Make your life simple or intuitive. )
  • मन को केंद्रित करने के लिए ईश्वर का ध्यान करना चाहिए । ( To focus on the mind, meditate on God. )
  • मादक पदार्थ, धूम्र-पान जैसे – बीड़ी, सिगरेट, चरस, भांग इत्यादि का सेवन न करें । ( Do not take intoxicants such as smoker – beedi, cigarette, charas, cannabis etc. )
  • अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अच्छी पुस्तकें, टीवी सीरियल, प्रोग्राम्स देखने चाहिए जो लक्ष्य प्राप्त करने में सहायक हो । ( To achieve your goal, good books, TV serials, programs should be seen, which should be helpful in achieving the goal. )
  • निरन्तर प्रयास करने के साथ-साथ अपना धैर्य बनाये रखें । ( Keep your patience while continuing to try. )

© Anmol Gyan India –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

1 Comment

  1. Thank you so much for providing individuals with an exceptionally breathtaking chance to check tips from this web site. It’s usually so enjoyable and jam-packed with a great time for me and my office fellow workers to visit the blog at a minimum thrice weekly to see the newest secrets you will have. Of course, we’re certainly motivated with all the great points you serve. Selected two facts in this posting are ultimately the most impressive I’ve ever had.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *