स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल वचन – Swami Vivekananda Ji Ke Anmol Vachan

स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल वचन – Swami Vivekananda Ji Ke Anmol Vachan

Swami Vivekananda Precious Thoughts, Anmol Gyan in Hindi, Swami Vivekananda Ke Anmol Vichar, AnmolGyan India, स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचारआनन्दमय जीवन की कला
स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल वचन
Swami Vivekananda Ji Ke Anmol Vachan
  • सत्य को हज़ार तरीकों से बताया जा सकता है,फिर भी हर एक सत्य ही होगा
  • कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है, तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं.
  • किसी दिन, जब आपके सामने कोई समस्या ना आये – आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत मार्ग पर चल रहे हैं.
  • सबसे बड़ा धर्म है अपने स्वभाव के प्रति सच्चे होना, स्वयं पर विश्वास करो.
  • बस वही जीते हैं,जो दूसरों के लिए जीते हैं.
  • शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से जो कुछ भी कमजोर बनता है – उसे ज़हर की तरह त्याग दो.
  • उठो, जागो और तब तक न रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाय |
    Anmol Gyan Viveka Nand Ji
  • जिस तरह से विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न धाराएँ अपना जल समुद्र में मिला देती हैं, उसी प्रकार मनुष्य द्वारा चुना हर मार्ग, चाहे अच्छा हो या बुरा भगवान तक जाता है.
  • किसी की निंदा ना करें: अगर आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते हैं, तो ज़रुर बढाएं. अगर नहीं बढ़ा सकते, तो अपने हाथ जोड़िये, अपने भाइयों को आशीर्वाद दीजिये, और उन्हें उनके मार्ग पे जाने दीजिये…
स्वामी विवेकानंद

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

1 Comment

  1. Ekdm right thinking sir g.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *