स्वामी विवेकानन्द के अनमोल विचार – Swami Vivekananda Ke Anmol Vichar

स्वामी विवेकानन्द के अनमोल विचार – Swami Vivekananda Ke Anmol Vichar

स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल वचनआनन्दमय जीवन की कला
स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार हिन्दी में
Precious Thoughts of ​​Swami Vivekananda in Hindi
  • आपका जितना बड़ा संघर्ष होगा उतनी बड़ी आपकी जीत भी होगी।
    The bigger you struggle, the bigger you will win.
  • एक अच्‍छे चरित्र का निर्माण हज़ारों बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।
  • खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।
    To think of ourselves as weak is the biggest sin.
  • दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो।
  • आकांक्षा , अज्ञानता , और असमानता – यह बंधन की त्रिमूर्तियां हैं।
  • कभी मत सोचिये की आत्मा के लिए कुछ असभंव है।
    Never think that there is some disagreement for the soul.
  • मन की एकाग्रता ही समग्र ज्ञान है।
    The concentration of mind is the only overall knowledge.
  • ज्ञान का प्रकाश सभी अंधेरों को खत्म कर देता है।
    The light of knowledge eliminates all darkness.
  • जीवन का रहस्य भोग में नहीं अनुभव के द्वारा शिक्षा प्राप्ति में है।
  • बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है।
    External nature is only a great form of inner nature.
  • डर और अधूरी इच्छाएँ आपके दुखो का कारण है।
    Fear and incomplete desires are the reason for your sadness.
  • शुभ एवं स्वस्थ विचारो वाला ही सम्पूर्ण स्वस्थ प्राणी है।
  • जब तक जीवन है, सीखते रहो क्यूंकि अनुभव ही सबसे श्रेष्ठ शिक्षक है।
  • डर कमजोरी की सबसे बड़ी निशानी है।
    Fear is the biggest sign of weakness.
  • उस व्यक्ति ने अमरत्त्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता।
  • जिस दिन आपके सामने कोई समस्या न आये – आप यकीन कर सकते है की आप गलत रस्ते पर सफर कर रहे है।
  • धन्य हैं वो लोग जिनके शरीर दूसरों की सेवा करने में नष्ट हो जाते हैं।
    Blessed are those people whose bodies are destroyed in serving others.
  • किसी चीज से डरो मत, तुमको अदभुत सफलता मिलेगी।
    Do not be afraid of anything, you will get amazing success.
  • जीवन का रहस्य केवल आनंद नहीं है बल्कि अनुभव के माध्यम से सीखना है।
  • जीवन में ज्यादा रिश्ते होना जरुरी नहीं है पर जो रिश्ते हैं उन में जीवन होना जरुरी है।
  • शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है।

– स्वामी विवेकानंद –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

1 Comment

  1. Thanks a lot for providing individuals with a very brilliant opportunity to check tips from this website. It is usually very kind plus full of amusement for me and my office friends to visit your web site not less than thrice in one week to study the latest tips you will have. And indeed, we’re actually astounded with all the excellent techniques you give. Certain 2 tips in this posting are clearly the most impressive we have all had.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *