स्वामी विवेकानन्द के अनमोल विचार – Swami Vivekananda Ke Anmol Vichar

स्वामी विवेकानन्द के अनमोल विचार – Swami Vivekananda Ke Anmol Vichar

स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल वचनआनन्दमय जीवन की कला
स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार हिन्दी में
Precious Thoughts of ​​Swami Vivekananda in Hindi
  • आपका जितना बड़ा संघर्ष होगा उतनी बड़ी आपकी जीत भी होगी।
    The bigger you struggle, the bigger you will win.
  • एक अच्‍छे चरित्र का निर्माण हज़ारों बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।
  • खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।
    To think of ourselves as weak is the biggest sin.
  • दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो।
  • आकांक्षा , अज्ञानता , और असमानता – यह बंधन की त्रिमूर्तियां हैं।
  • कभी मत सोचिये की आत्मा के लिए कुछ असभंव है।
    Never think that there is some disagreement for the soul.
  • मन की एकाग्रता ही समग्र ज्ञान है।
    The concentration of mind is the only overall knowledge.
  • ज्ञान का प्रकाश सभी अंधेरों को खत्म कर देता है।
    The light of knowledge eliminates all darkness.
  • जीवन का रहस्य भोग में नहीं अनुभव के द्वारा शिक्षा प्राप्ति में है।
  • बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है।
    External nature is only a great form of inner nature.
  • डर और अधूरी इच्छाएँ आपके दुखो का कारण है।
    Fear and incomplete desires are the reason for your sadness.
  • शुभ एवं स्वस्थ विचारो वाला ही सम्पूर्ण स्वस्थ प्राणी है।
  • जब तक जीवन है, सीखते रहो क्यूंकि अनुभव ही सबसे श्रेष्ठ शिक्षक है।
  • डर कमजोरी की सबसे बड़ी निशानी है।
    Fear is the biggest sign of weakness.
  • उस व्यक्ति ने अमरत्त्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता।
  • जिस दिन आपके सामने कोई समस्या न आये – आप यकीन कर सकते है की आप गलत रस्ते पर सफर कर रहे है।
  • धन्य हैं वो लोग जिनके शरीर दूसरों की सेवा करने में नष्ट हो जाते हैं।
    Blessed are those people whose bodies are destroyed in serving others.
  • किसी चीज से डरो मत, तुमको अदभुत सफलता मिलेगी।
    Do not be afraid of anything, you will get amazing success.
  • जीवन का रहस्य केवल आनंद नहीं है बल्कि अनुभव के माध्यम से सीखना है।
  • जीवन में ज्यादा रिश्ते होना जरुरी नहीं है पर जो रिश्ते हैं उन में जीवन होना जरुरी है।
  • शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है।

– स्वामी विवेकानंद –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *