वह माँ ही है – Wah Maa Hi Hai

वह माँ ही है – Wah Maa Hi Hai

Maa Aur Beti Anmol Gyanआनन्दमय जीवन की कला
:: पहचान ::
माँ निहारती है बेटियों में अपना स्वरूप,
पिता के ह्रदय का गुमान का गुमान रहीं बेंटीयाँ ।
संस्कृति व शील रही जिनकी है पहचान,
अपने सभी जनों की जान रहीं बेटीयाँ ।
खुद की फिकर करतीं न, फर्ज को निभातीं,
हिन्दुस्तान का हैं स्वाभिमान रहीं बेटीयाँ ।
नित्य नये कीर्तिमान गढ़ती रहीं तभी तो,
भारत की आन-बान-शान रहीं बेटीयाँ ।।
:: वह माँ ही है ::
जीवन को डाल संकटो में जो प्रदान करे,
जीवन मनोरम सुतों को, वह माँ ही है ।
जीवन में दुख की जो स्याह रात आती कभी,
भोर की उजास शुभ्र दिखे, वह माँ ही है ।
चिन्तित हो करती प्रयास रहती है नित्य,
रौशन हो कैसे घर बार, वह माँ ही है ।
माँ का उपमान कोई मिलता न, निविरकल्प,
माँ को क्या कहेंगे भला, वह माँ ही है ।।

– © अखिलेश त्रिवेदी ‘शाश्वत’ –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *