माँ पर सुविचार – Maa Par Suvichar

माँ पर सुविचार – Maa Par Suvichar

Maa Par Suvichar in Hindi AnmolGyanआनन्दमय जीवन की कला

माँ पर सुविचार हिंदी में
Maa Par Suvichar in Hindi

    • जीवन का सबसे पहला मित्र माँ ही होती है।
    • इस संसार में केवल माँ का ह्रदय नि:स्वार्थ होता हैं।
    • माँ की ममता अनमोल होती है ।
    • माँ से बढ़ कर कोई गुरु नहीं होता हैं‬।
    • माँ का ह्रदय क्षमा से भरा होता है।
    • नींद अपनी त्याग हमकों सुलाया, आंसू गिराकर हमकों हंसाया,
      भूखे रहकर हमकों खिलाया, वह माँ ही तो है।
    • माँ, हमेशा अपने पुत्र की खुशहाली के लिए दुआ करती है।
    • अपने पुत्र के लिए माँ कुछ भी कर सकती है।
    • संसार का दुर्लभ व महत्वपूर्ण ज्ञान, सबसे पहले माँ से ही प्राप्त होता है।
    • माँ के कर्ज को कभी कोई अदा नहीं कर सकता है।
    • मातृत्व की शक्ति प्राकृतिक से बढ़कर होती है।
    • स्वर्ग का दूसरा नाम माँ है।
    • जिस घर में माँ होती हैं, वह घर धन – धान्य से परिपूर्ण रहता हैं।
    • माँ एक इन्द्रधनुष के समान होती है जिसमें जीवन के सभी रंग समाएं होते है।
    • माँ के पैर, मेरा मंदिर होता है।
    • माँ‬ का स्थान सबसे ‬‪ऊंचा होता ‪हैं‬।
    • माँ कितना त्याग कोई नहीं कर सकता है।
    • माँ एक ऐसी निर्मल संगीत है जो सब के दिल को जीत लेती है।
    • माँ की आज्ञा का पालन न करना सबसे बड़ा अपराध हैं।
    • माँ से ही प्रेम की शुरुआत होती है।
    • माता उस फूल की तरह है जो पूरे परिवार को महकाती है।
    • माँ का स्थान कोई नहीं ले सकता।
    • एक माँ ही है जिसमे सबसे ज्यादा सहने की शक्ति होती है।
    • जिस घर में माँ की इज्जत नहीं होती,
      उस घर में कभी खुशहाली नहीं आ सकती।

Maa Par Suvichar in Hindi

– © अनमोल ज्ञान इंडिया –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code