नशा मुक्त भारत कैसे हो – How to become a drug free India

नशा मुक्त भारत कैसे हो – How to become a drug free India

Nasha Mukt Bharat Banane Ke Liye Kya Upayआनन्दमय जीवन की कला

नशा मुक्त भारत हिंदी में : Nasha Mukt Bharat in Hindi

आज कल नशेबाजी घट नहीं रही है बल्कि बढ़ रही है । नशे के शिकार युवा वर्ग ही नहीं, छोटे बच्चे भी हो रहे हैं । युवा पीढ़ी नशे को फैशन समझकर कर रहा है या दूसरे शब्दो में कहे तो एक दूसरे को देखकर नशा कर रहे हैं, ये सोच फिल्मों, टीवी प्रोग्रामों आदि को देखकर आता है । इस प्रकार की सोचने वाला युवा और बड़े बच्चों की संख्या ज्यादा है । नशे को धर्म की भाषा में पाप की संज्ञा दी गयी है । धीरे–धीरे यह मनुष्य के शरीर को खोखला बना देता है । शरीर की जीवन शक्ति क्षीण होने लगती है ।

सभी प्रकार का नशा मनुष्य की क्षमता,सोच और कुशाग्रता पर बहुत बड़ा प्रभाव डालता है । नशा करने वाला व्यक्ति यदि नशा न करे तो एक प्रकार की बेचैनी से होने लगती है । धूम्रपान की श्रेणी में भांग, गांजा, चरस, सिगरेट, बीड़ी आदि की गणना होती है ।  पेय नशे के रूप में मदिरा, भांग की गणना होती है । इसके आगे बढे तो अफीम की बारी आती है, फिर हेरोइन, स्मैक आदि महंगे नशीले दवाएँ आने लगी हैं । ( Drinks are considered as alcohol, beans are counted. After this, the use of opium is in place, then heroin, smack etc. expensive drugs are coming.)

इन सभी के सेवन करने वाले को पता नहीं चलता कि वह क्या कर रहा है ? इसका आदत पड़ जाने के बाद मनुष्य या लोगों को इस प्रकार जकड़ लेता है कि उसको पाने के लिए किसी भी तरह से, उसको किसी भी कीमत पर आवश्यक हो जाता है । ज्यों-ज्यों समय बीतता जाता है त्यों-त्यों उसकी तृष्णा की मात्रा अर्थात उसकी माँग बढ़ती ही जाती है, और अधिक मात्रा के लिए अधिक पैसे कि जरूरत पड़ने लगती है । इतना ही नहीं बल्कि उसके जीवन शक्ति का विनाश क्रम तेजी से बढ़ने लगता है । बीमारियों का प्रकोप बहुत तेजी से होने लगता है और स्वयं ही कष्ट-पीड़ाओं में घिर जाता है, जिससे घर वालों को भी उसकी देख-रेख करने के लिए उसमें शामिल होना पड़ता है । पैसे के साथ-साथ उसकी और उसके परिवार वालों की भी जिंदगी बहुत कष्टकारी हो जाती है, और वह स्वयं जीवन-मरण के बीच मौत के दिन को पूरे करता है ।

नशेबाजी का प्रभाव परिवार के साथ-साथ बच्चों पर पड़ने लगता है और वह भी नशे के शिकार हो जाते हैं अर्थात उसका और उसके पूरा परिवार का जीवन अंधकार से भर जाता है । ऐसी परिस्थिति में मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा, अर्थव्यवस्था तथा पूरा परिवार और समाज उन्हें उपेक्षा की दृष्टि से देखता है तथा बिभिन्न प्रकार के अपराधों जैसे चोरी, छिनैती, लूट-पाट इत्यादि में भी इजाफा हो रहा है ।

इस प्रकार “नशा मुक्ति भारत” बनाने के लिए हम-आप को सहयोग करना चाहिए । जिससे हमारा जीवन खुशहाल और आनंदमय हो जाएगा । यही हमारे लेख लिखने का अभिप्राय है ।


नशा मुक्त भारत बनाने के लिए कुछ सुझाव या उपाय निम्नलिखित हैं –

  • देश को नशा मुक्त या समृधि बढ़ानी है तो बीड़ी, सिगरेट, तम्बाकू, पान, गुटखा और नशीले पदार्थों पर रोक लगानी चाहिए ।
  • टीवी में ऐसे मादक पदार्थों के विज्ञापन पर रोक लगानी चाहिए ।
  • मादक पदार्थों पर कर बढ़ा देना चाहिए । ( The advertisement of such drug substances should be stopped in the TV. )
  • इसके रोक-थाम के लिये सशक्त कानून बनाने चाहिए । ( Strong laws should be made to stop it. )
  • स्कूल-कॉलेजो में निरंतर डॉक्टरी जाँच होती रहे और ऐसी लतों के शिकार पाये गए विद्यार्थियों का उचित इलाज किया जाना चाहिए ।
  • सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों में धूम्र-पान के लिये सशक्त कानून बनाने चाहिए ।
  • खुले बाज़ार में बेचने वाले मादक पदार्थों पर रोक लगानी चाहिए ।
  • लाइसेंस के बिना मादक पदार्थ बेचने वालो को अपराध की श्रेणी में गिना जाना चाहिए तथा उसको सजा भी मिलनी चाहिए ।
  • स्कूल-कॉलेजो में नशा मुक्त का प्रोग्राम होना चाहिए ।
  • जगह-जगह पर “नशा मुक्त भारत” का पोस्टर लगाना चाहिए । जैसे हॉस्पिटल, स्कूल कॉलेज, बाजार आदि ।
  • यदि हम गांव की बात करे तो, गांव के प्रधान को नशा मुक्त के लिये समय-समय पर जागरूकता कार्यक्रम कराना चाहिए ।

– Anmol Gyan India –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code