दीपावली पर कविताएँ – Poems on Diwali

दीपावली पर कविताएँ – Poems on Diwali

Poems on Diwaliआनन्दमय जीवन की कला

दीपावली पर कविताएँ हिंदी में – Poems on Diwali in Hindi

: Poems on Diwali :

दीवाली के दिये जले पर, घर अपने अँधियारा है ।
कोई आख़िर मुझे बताये, हक़ ये किसने मारा है ।
शनै-शनै निगले है’ ग़रीबी, आफ़त गला मरोड़ रही ।
हम पर ये इल्ज़ाम लगा है, उनसे अपनी होड़ रही ।
रूखा-सूखा खाकर पलते, वैभव सिर्फ तुम्हारा है ।
कोई आख़िर मुझे बताये, हक़ ये किसने मारा है ।
प्राण हमारे मुँह को आते, लहू में’ विपदा दौड़ रही ।
हाय-हाय बेदर्द विधाता, कमर ग़रीबी तोड़ रही ।
दुनिया वाले फिर भी जलते, क्या अपराध हमारा है ?
कोई आख़िर मुझे बताये, हक़ ये किसने मारा है ।
खाट सिरहाने बँधी लक्ष्मी, आँखें हमें तरेर रही ।
अपनी फूटी क़िस्मत देखो, पाल जनम का बैर रही ।
नारायण भी हमको छलते, तम ने पैर पसारा है ।
कोई आख़िर मुझे बताये, हक़ ये किसने मारा है ।

Poems on Diwali

Poems on Diwali in Hindi

– © दीपक चौबे ‘अंजान’ –

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code