ज्ञान दर्पण – Gyan Darpan

ज्ञान दर्पण – Gyan Darpan

Gyan Darpan Kavita Hindiआनन्दमय जीवन की कला
ज्ञान दर्पण कविता हिन्दी में : Gyan Darpan Kavita Hindi Mein

:: तारे सा आकर्षक नहीं, सूरज सा तेज बनो ::

हां मैं एक तारा हूं
जगमग करता ,नभ में दिखता ;
सबको यूं आकर्षित करता
हां मैं एक तारा हूं।

आसमान की काली चादर
मुझसे सजकर ,इतराती;
पर मेरा अस्तित्व बड़ा ही
छोटा मुझको बतलाती।

कुछ बादल के झुरमुट के
ही पीछे मै खो जाता हूं;
और सवेरा होते ही
नीली, चादर में सो जाता हूं।

मुझे देख सब होते हर्षित
पर मैं ना आऊं किसी के काम;
सूरज को देख सके ना कोई
फिर भी है वो कीर्तिमान।

मैं खो जाऊं आसमान में
देता मुझपे कोई ना ध्यान;
वहीं अगर सूरज छिप जाए
सब हो जाते है परेशान।

सूरज की बस एक किरण से
जीवन में विश्वास मिले;
लाखों जन में जागे आशा
और सबमें उल्लास भरे।

और वहीं मैं नभ में बैठा
बना सजावट का सामान;
दूर से मुझको लोग निहारे
पर देते ना सूरज सा मान।

– © आर्तिका श्रीवास्तव –

जीवन के लिए अनमोल ज्ञान… यहाँ क्लिक करें

Gyan Darpan Kavita Hindi Mein

About the author

AnmolGyan.com best Hindi website for Hindi Quotes ( हिंदी उद्धरण ) /Hindi Statements, English Quotes ( अंग्रेजी उद्धरण ), Anmol Jeevan Gyan/Anmol Vachan, Suvichar Gyan ( Good sense knowledge ), Spiritual Reality ( आध्यात्मिक वास्तविकता ), Aarti Collection( आरती संग्रह / Aarti Sangrah ), Biography ( जीवनी ), Desh Bhakti Kavita( देश भक्ति कविता ), Desh Bhakti Geet ( देश भक्ति गीत ), Ghazals in Hindi ( ग़ज़ल हिन्दी में ), Our Culture ( हमारी संस्कृति ), Art of Happiness Life ( आनंदमय जीवन की कला ), Personality Development Articles ( व्यक्तित्व विकास लेख ), Hindi and English poems ( हिंदी और अंग्रेजी कवितायेँ ) and more …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code